‘पद्मावती’ को रिप्‍लेस करेगी कपिल शर्मा की ‘फिरंगी’, इन फिल्‍मों की भी हुई चांदी

कॉमेडियन कपिल शर्मा इनदिनों अपनी आगामी फिल्‍म ‘फिरंगी’ के प्रमोशन में जुटे हुए हैं. पिछले दिनों वे अक्षय कुमार के टीवी शो में नहीं जा पाये थे जिसके बाद उन्‍हें लेकर कई तरह की बातें हुई थी. अब कपिल एकबार फिर सुर्खियों में हैं. दरअसल ‘फिरंगी’ 24 नवंबर को रिलीज होनी वाली थी लेकिन अब ऐसा नहीं होगा. इसका कारण अभी तक सेंसर बोर्ड से सर्टिफिकेट नहीं मिलना बताया जा रहा है. 

ऐसे में कपिल शर्मा की बतौर प्रोड्यूसर पहली फिल्‍म ‘फिरंगी’ 24 नवंबर के बजाय 1 दिसंबर को रिलीज होगी. यानी अब कपिल की फिल्‍म ऐतिहासिक पृष्‍ठभूमि पर आधारित फिल्‍म ‘पद्मावती’ को रिप्‍लेस करेगी. दरअसल ‘पद्मावती’ को लेकर पूरे देश में हो रहे विरोध के बाद निर्माताओं ने फिल्‍म की रिलीज डेट का टाल दिया है.

पद्मावती राजनैतिक रंग ले चुकी हैं, कई राजनेताओं ने फिल्‍म का विरोध किया है. इस वजह से 200 करोड़ रुपये के बजट में बनी फिल्‍म ‘पद्मावती’ को निर्माताओं ने अभी रोकने का ही फैसला किया है. लेकिन पद्मावती पर रोक लगने से बाकी फिल्‍मों की चांदी हो गई है.

इस फेहरिस्‍त में सबसे पहले नाम आता है ‘फुकरे रिटर्न्‍स’ का. फिल्‍म पहले 8 दिसंबर को रिलीज होनेवाली थी लेकिन ‘पद्मावती’ की रिलीज को देखते हुए निर्माताओं ने कोई रिस्‍क लेने से टालने के लिए फिल्‍म को 15 दिसंबर को रिलीज करने की बात तय की थी. लेकिन अब ‘पद्मावती’ अटक गई है ऐसे में ‘फुकरे रिटर्न्‍स’ को सोलो रिलीज मिल गई है.

पहले ‘फिरंगी’ और सनी लियोन की फिल्‍म ‘तेरा इंतजार’ 24 नवंबर को बॉक्‍स ऑफिस पर टकराने वाली थी, लेकिन अब दोनों फिल्‍मों को सोलो रिलीज मिल गई है. वहीं ‘फुकरे रिटर्न्स’ भी नवाजुद्दीन सिद्दीकी की ‘मॉनसून शूटआउट’ के साथ भिड़ने वाली थी. अब हर किसी को सोलो रिलीज का मौका मिल गया है. 

‘पद्मावती’ की जगह लेंगे ‘फिरंगी’, इन फिल्‍मों को भी मिलेगा फायदा

कॉमेडियन कपिल शर्मा इनदिनों अपनी आगामी फिल्‍म ‘फिरंगी’ के प्रमोशन में जुटे हुए हैं. पिछले दिनों वे अक्षय कुमार के टीवी शो में नहीं जा पाये थे जिसके बाद उन्‍हें लेकर कई तरह की बातें हुई थी. अब कपिल एकबार फिर सुर्खियों में हैं. दरअसल ‘फिरंगी’ 24 नवंबर को रिलीज होनी वाली थी लेकिन अब ऐसा नहीं होगा. इसका कारण अभी तक सेंसर बोर्ड से सर्टिफिकेट नहीं मिलना बताया जा रहा है. 

ऐसे में कपिल शर्मा की बतौर प्रोड्यूसर पहली फिल्‍म ‘फिरंगी’ 24 नवंबर के बजाय 1 दिसंबर को रिलीज होगी. यानी अब कपिल की फिल्‍म ऐतिहासिक पृष्‍ठभूमि पर आधारित फिल्‍म ‘पद्मावती’ को रिप्‍लेस करेगी. दरअसल ‘पद्मावती’ को लेकर पूरे देश में हो रहे विरोध के बाद निर्माताओं ने फिल्‍म की रिलीज डेट का टाल दिया है.

पद्मावती राजनैतिक रंग ले चुकी हैं, कई राजनेताओं ने फिल्‍म का विरोध किया है. इस वजह से 200 करोड़ रुपये के बजट में बनी फिल्‍म ‘पद्मावती’ को निर्माताओं ने अभी रोकने का ही फैसला किया है. लेकिन पद्मावती पर रोक लगने से बाकी फिल्‍मों की चांदी हो गई है.

इस फेहरिस्‍त में सबसे पहले नाम आता है ‘फुकरे रिटर्न्‍स’ का. फिल्‍म पहले 8 दिसंबर को रिलीज होनेवाली थी लेकिन ‘पद्मावती’ की रिलीज को देखते हुए निर्माताओं ने कोई रिस्‍क लेने से टालने के लिए फिल्‍म को 15 दिसंबर को रिलीज करने की बात तय की थी. लेकिन अब ‘पद्मावती’ अटक गई है ऐसे में ‘फुकरे रिटर्न्‍स’ को सोलो रिलीज मिल गई है.

पहले ‘फिरंगी’ और सनी लियोन की फिल्‍म ‘तेरा इंतजार’ 24 नवंबर को बॉक्‍स ऑफिस पर टकराने वाली थी, लेकिन अब दोनों फिल्‍मों को सोलो रिलीज मिल गई है. वहीं ‘फुकरे रिटर्न्स’ भी नवाजुद्दीन सिद्दीकी की ‘मॉनसून शूटआउट’ के साथ भिड़ने वाली थी. अब हर किसी को सोलो रिलीज का मौका मिल गया है. 

VIDEO : ‘पद्मावती’ विवाद पर क्या हैं आम आदमी पार्टी के नेता कुमार विश्वास की राय, आप भी सुनें

राजस्थान में अपना जौहर दिखाने वाली रानी ‘पद्मावती’ के नाम पर रिलीज हो रही दीपिका पादुकोन अभिनीत फिल्म ‘पद्मावती’ पर चारों ओर विवाद हो रहा है. देश भर में फैले राजपूत इस फिल्म का विरोध कर रहे हैं. करनी सेना ने साफ कर दिया है कि वह इस फिल्म को जब तक देख नहीं लेते, इसे रिलीज नहीं होने देंगे.

करनी सेना का मानना है कि रानी पद्मावती का जिस तरह से फिल्म में चरित्र-चित्रण किया गया है, वह राजपूत समाज की भावनाओं को आहत करता है. ‘पद्मावती’ के विरोधियों को दो राज्यों की सरकारों का भी समर्थन मिल गया है. मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने तो स्पष्ट कर दिया है कि रानी पद्मावती का गलत चरित्र-चित्रण बर्दाश्त नहीं किया जाना चाहिए. पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी फिल्म की रिलीज का विरोध कर रहे लोगों का समर्थन किया है.

इस बीच, आम आदमी पार्टी (आप) के नेता और देश के जाने-माने डॉ कवि कुमार विश्वास का एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है. डॉ विश्वास ने इसमें महारानी पद्मावती और राजस्थान के राजपूताना समाज पर अपनी प्रतिक्रिया दी है. VIDEO में आप भी डॉ कुमार विश्वास के मुख से सुनें राजस्थान की शान रानी पद्मावती और महाराज रत्न सिंह के सेनानायक गोरा और बादल की कहानी.

Padmawati controversy : संजय लीला भंसाली आैर दीपिका पादुकोण का सिर कलम करने पर इनाम देने वाले भाजपा नेता पर मुकदमा दर्ज

गुड़गांव : गुड़गांव पुलिस ने फिल्मकार संजय लीला भंसाली और अदाकारा दीपिका पादुकोण का सिर कलम करने वालों को कथित तौर पर 10 करोड़ रुपये इनाम देने की घोषणा करने वाले हरियाणा भाजपा के नेता सूरजपाल सिंह अमू के खिलाफ मामला दर्ज किया है. एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि भंसाली के एक प्रशंसक की ओर से भाजपा हरियाणा इकाई के मुख्य मीडिया संयोजक अमू के खिलाफ शिकायत पर यहां सेक्टर 29 थाने में आईपीसी के तहत एक मामला दर्ज किया गया.

इसे भी पढ़ेंः पद्मावती’ के बाद आ गये राजा रावल रतन सिंह… देखें तसवीर

चक्करपुर गांव के निवासी पवन कुमार ने अपनी शिकायत में कहा है कि भाजपा नेता के हालिया बयान से उनकी भावनाएं आहत हुर्इ हैं. बहरहाल, अमू अपने बयान पर कायम हैं और उन्होंने हरियाणा पुलिस को गिरफ्तार करने की चुनौती दी. भाजपा नेता ने कहा कि वह अपने बयान पर कायम हैं, चाहे वह पार्टी में रहें या नहीं रहें. अमू ने कहा कि उन्होंने राजपूत होने के नाते निजी तौर पर बयान दिया, पार्टी के पदाधिकारी होने के नाते नहीं.

इसके साथ ही, पार्टी की आेर से कारण बताओ नोटिस मिलने के बावजूद हरियाणा भाजपा के नेता सूरजपाल अमू ने कहा कि वह किसी को पद्मावती नहीं देखने देंगे. उन्होंने दावा किया कि रानी पद्मावती के किरदार को फिल्म में गलत तरीके से दिखाया गया है. उन्होंने कहा कि मैं फिल्म नहीं देखना चाहता और मैं किसी को भी इसे देखने नहीं दूंगा. अगर आप इसे गुंडागर्दी कहते हैं तो मुझे इससे फर्क नहीं पड़ता.

भाजपा नेता ने कहा कि फिल्म का ट्रेलर टेलीविजन और सिनेमा हॉल में दिखाया जा रहा है. ट्रेलर में जिस तरह का दृश्य मैंने देखा है, मुझे आपसे कहते हुए शर्म आती है. उन्होंने कहा कि अगर फिल्म दिखायी गयी, आप जानते हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वच्छ भारत अभियान चल रहा है. समूचा क्षत्रिय समाज देश के सभी सिनेमा हॉलों को बर्बाद कर देगा.

पद्मावती विवाद: मैं किसी को पद्मावती नहीं देखने दूंगा, तो जावेद अख्तर को दौड़ा कर पीटा जाएगा

चंडीगढ/गोरखपुर/नयी दिल्ली : कारण बताओ नोटिस मिलने के बावजूद हरियाणा भाजपा के नेता सूरजपाल अमू ने कहा कि वह किसी को पद्मावती नहीं देखने देंगे. उन्होंने दावा किया कि रानी पद्मावती के किरदार को फिल्म में गलत तरीके से दिखाया गया है. उन्होंने यहां संवाददाताओं से कहा, मैं फिल्म नहीं देखना चाहता और मैं किसी को भी इसे देखने नहीं दूंगा. अगर आप इसे गुंडागर्दी कहते हैं तो मुझे इससे फर्क नहीं पड़ता.

उन्होंने कहा, फिल्म का ट्रेलर टेलीविजन और सिनेमा हॉल में दिखाया जा रहा है. ट्रेलर में जिस तरह का दृश्य मैंने देखा है, मुझे आपसे कहते हुए शर्म आती है. उन्होंने कहा, अगर फिल्म दिखायी गयी , आप जानते हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वच्छ भारत अभियान चल रहा है. समूचा क्षत्रिय समाज देश के सभी सिनेमा हॉलों को बर्बाद कर देगा.



डांस करनेवाली से डर गयी सरकार


फिल्म पद्मावती के विवाद में यूपी के पूर्व कैबिनेट मंत्री और सपा नेता आजम खान कूद गये हैं. उन्होंने कहा है कि यह कैसी राजगिरी है, एक फिल्म में डांस करने वाली ‘नचनिया’ से डर गये. बड़ी-बड़ी पगड़ियां लगाकर फिल्मों का विरोध कर रहे हैं. फिल्मों की मुखालिफत नहीं की जाती है, मजे लिये जाते हैं. आज जो लोग इसका विरोध कर रहे हैं, वो कल तक अंग्रेजों के बस्ते उठाया करते थे. अंग्रेजों के सम्मान में झुककर 40 सलाम करते थे.


पहले फिल्म देखनी चाहिए


केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह ने कहा कि मेरी राय बहुत साफ है. कुछ ऐतिहासिक तथ्य हो सकता है कि हमारी सोच के अनुसार नहीं हों. विरोध करने वालों को पहले फिल्म देखनी चाहिए. यदि उन्हें ऐसा कुछ दिखता है, जिससे उनकी भावनाएं आहत हो रही हैं, तो वे निर्माताओं से कह सकते हैं कि उन हिस्सों को हटाएं.

जावेद अख्तर को करणी सेना की धमकी

करणी सेना ने फिल्मकार जावेद अख्तर को धमकी दी है. अख्तर ने राजपूतों पर एक बयान दिया था, जिसके बाद भड़की करणी सेना उन्हें पीटने की धमकी दी है. करणी सेना का कहना है कि अगर जावेद अख्तर राजस्थान आते हैं, तो उन्हें यहां की सड़कों पर दौड़ा-दौड़ाकर पीटेंगे. जावेद की गिरफ्तारी की मांग को लेकर करणी सेना ने उनका पुतला भी जलाया है. बता दें जावेद ने रविवार को एक इंटरव्यू में कहा था कि ये जो राजस्थान के राजा-महाराजा हैं, वे 200 साल तक अंग्रेजों के दरबार में पगड़ी बांधकर खड़े रहे और उन्हें सलाम करते रहे, तब उनकी राजपूती कहां थी.

पद्मावती की रिलीज पर यह है निर्माताओं की रणनीति…!

मुंबई : खबर है कि विवादों में फंसी फिल्म पद्मावती के निर्माता उसकी रिलीज के बारे में फैसला सेंसर बोर्ड की हरी झंडी के बाद ही करेंगे.

दीपिका पादुकोण, शाहिद कपूर और रणवीर सिंह अभिनीत यह फिल्म इससे पहले एक दिसंबर को रिलीज होनी थी.

फिल्म पद्मावती के निर्माता वायकॉम 18 मोशन पिक्चर्स ने एक बयान में घोषणा की कि वह देश के कानून के साथ ही केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) के लिए सम्मान और आदर के चलते फिल्म की रिलीज की तिथि स्वेच्छा से टाल रहा है.

उन्होंने कहा कि जरूरी मंजूरी मिलने के बाद फिल्म की नयी रिलीज तिथि घोषित की जायेगी.

हालांकि मीडिया की खबरों में दावा किया गया है कि फिल्म की रिलीज अगले वर्ष के लिए टल सकती है और प्रोमोशन रोक दिये गये हैं. हालांकि प्रोडक्शन हाउस के एक सूत्र के मुताबिक, अभी तक कोई ठोस फैसला नहीं हो पाया है.

सूत्र ने कहा, हम सीबीएफसी से प्रमाणपत्र प्राप्त करने के बाद फिल्म की रिलीज तिथि पर निर्णय करेंगे. हम सेंसर बोर्ड से हरी झंडी का इंतजार करेंगे और उसके बाद निर्णय करेंगे कि रिलीज के लिए सर्वश्रेष्ठ तिथि क्या है.

सीबीएफसी प्रमुख प्रसून जोशी ने सोमवार को कहा था कि फिल्म पर एक संतुलित निर्णय के लिए बोर्ड को पर्याप्त समय दिया जाना चाहिए.

सीबीएफसी में मंगलवार को एक सूत्र ने जोशी के विचारों को ही दोहराया. सूत्र ने कहा, सीबीएफसी में किसी भी फिल्म को प्रमाणित करने के लिए अधिकतम समय 68 दिन है, यह कम भी हो सकता है.

हम सामान्य तौर पर प्रमाणन एक महीने में या एक महीने से कुछ अधिक समय में करते हैं. इस तरह की फिल्म के मामले में आपको सावधान रहना होता है, विचार लेने होते हैं, इसलिए इसमें कुछ अधिक समय लगता है.

इसका यह मतलब नहीं कि 68 दिन से पहले कुछ भी नहीं होगा. यदि निर्माताओं को समय पर प्रमाणन चाहिए, यह मशविरा है कि वे इतना समय ध्यान में रखें. सीबीएफसी ने शुरू में आवेदन पद्मावती के निर्माताओं को यह कहते हुए लौटा दिया था कि यह अपूर्ण है.

निर्माताओं ने फिर से आवेदन किया है. यह पूछे जाने पर कि क्या आवेदन की जांच हो गयी है, सीबीएफसी सूत्र ने कहा, नहीं, इसमें समय लगता है क्योंकि हमारे पास :प्रमाणन के लिए: अन्य फिल्में भी होती हैं और पद्मावती केवल उनमें से एक है.

हमारे पास सीमित कर्मचारी होते हैं, हम सब कुछ छोड़कर केवल इसी पर ध्यान केंद्रित नहीं कर सकते. इसमें सामान्य समय लगेगा.

‘पद्मावती’ पर बवाल से नाराज हैं दीपिका पादुकोण? पीएम मोदी के कार्यक्रम से कर लिया किनारा

संजय लीला भंसाली की फिल्‍म ‘पद्मावती’ लगातार विरोध का सामना कर रही है. इस बीच फिल्‍म की लीड एक्‍ट्रेस दीपिका पादुकोण ने खुद को Global Entrepreneurship Summit (GES) से अलग कर लिया है. 28 नवंबर से शुरू हो रहे इस सम्‍मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और यूएस के प्रेसिडेंट डोनाल्‍ड ट्रंप की बेटी इंवाका शामिल होनेवाली हैं. तेलंगाना सरकार एक उच्‍च अधिकारी ने बताया कि दीपिका ने इवेंट में आने से मना कर दिया है. 

दीपिका को 29 नवंबर को यहां एक सेशन Hollywood to Nollywood to Bollywood: The Path to Moviemakin में बोलना था. तेलंगाना सरकार के इन्फोर्मेशन टेक्नोलॉजी सेक्रेटरी जयेश रंजन ने कहा,’ पहले दीपिका इस सेशन की हिस्‍सा थीं, लेकिन अब उन्‍होंने इस कार्यक्रम में शामिल होने से इंकार कर दिया है.’

उन्‍होंने आगे कहा,’ फिलहाल इसके कारणों का पता नहीं चल पाया है. अभी कार्यक्रम के मेहमानों की कलस्‍ट फाइनल नहीं हुई क्‍योंकि इसमें बहुत से बदलाव हो रहे हैं.’ ऐसा माना जा रहा है कि पद्मावती पर बढ़े विवाद से नाराज होकर दीपिका ने इस कार्यक्रम से किनारा कर लिया है.’ बता दें कि दीपिका और संजय लीला भंसाली को धमकियां मिल रही है जिसके बाद उनकी सुरक्षा बढ़ा दी गई है.

दरअसल पिछले दिनों दीपिका ने अपने एक बयान में कहा था कि पद्मावती हर हाल में रिलीज होगी. उनकेइस बयान के बाद कई राजपूत संगठन भड़क गये थे. श्री राजपूत करणी सेना के महिपाल सिंह मकराना ने एक वीडियो जारी कर दीपिका की नाक काटने तक की धमकी दे डाली थी. इसके अलावा हरियाणा के भाजपा के चीफ मीडिया को-ऑर्डिनेटर कुंवर सूरजपाल अमु ने भंसाली और दीपिका के सिर काट कर लानेवाले को 10 करोड़ इनाम देने का ऐलान किया था.

हालांकि इस फिल्‍म की रिलीज डेट को टाल दिया गया है. फिल्‍म पहले 1 दिसंबर को रिलीज होनेवाली थी.